हमीरपुर: मौदहा के पुजारी का तुगलकी फरमान, मंदिर में दलितों के प्रवेश पर लगाई पाबंदी

loading...

हमीरपुर। जिले के मौदहा कस्बे में एक पुजारी का तुगलकी फरमान सामने आया है। जिसमें गढ़ा गांव में रामजानकी मंदिर के पुजारी ने बकायदा बोर्ड टांगकर दलितों के मंदिर में प्रवेश पर पाबंदी लगा है। पुजारी का दावा है कि ये मंदिर उसके पुरखों का है, लिहाजा यहां दलितों का आना मना है। घटनाक्रम के बाद 30 प्रतिशत दलित आबादी वाले गांव में आक्रोश व्याप्त है। ग्रामीणों की शिकायत के बाद पुलिस और एसडीएम मौदहा ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गढ़ा के रामजानकी मंदिर में एक पखवाड़े से अखण्ड रामायण का पाठ चल रहा है। मंदिर के पुजारी गांव के ही कुंवर बहादुर सिंह ने गेट पर एक बोर्ड टांग दिया है। इसमें लिखा गया है कि मंदिर में दलितों का प्रवेश वर्जित है। इस बोर्ड के टांगे जाने से गांव के लोग दंग रह गए। मामला तूल पकड़ने के बाद पुजारी ने बोर्ड तो हटा लिया, लेकिन वह अभी भी मंदिर में दलितों को प्रवेश नहीं देने पर अड़ा है। पुजारी का इस मामले में अजीब तर्क है। पुजारी कुंवर बहादुर सिंह का कहना है कि मंदिर में तमाम लोग शराब पीकर आते हैं जिससे यहां का माहौल खराब हो रहा है। इसीलिए ऐसे तत्वों के प्रवेश पर रोक लगाने का बोर्ड टांगा गया था।

loading...

Related Posts

About The Author

Add Comment