BSF ने तेज बहादुर को किया बर्खास्त, PM से की थी खराब खाने की शिकायत

loading...

नई दिल्ली। एक तरफ सरकारभ्रष्टाचार को खत्म करने के बड़े-बड़े दावे कर रही है, वहीं दूसरी ओर इसे उजागर करने वालों को सजा मिल रही है। हरियाणा के बहादुर BSF जवान तेज बहादुर को सोशल मीडिया पर डिपार्टमेंट द्रारा घटिया खाना परोसने की शिकायत करना महंगा पड़ा है। बीएसएफ ने जवान तेज बहादुर यादव को स्टाफ कोर्ट ऑफ इनक्वायरी की रिपोर्ट के आधार पर बर्खास्त कर दिया है। बीएसएफ अधिकारियों के मुताबिक जांच में जवान द्वारा लगाए गए खराब खाने के आरोप गलत पाये गये हैं। तेज बहादुर के आरोपों को लेकर बीएसएफ ने गृह मंत्रालय को अपनी पूरी रिपोर्ट भेजी थी। रिपोर्ट में तेज बहादुर के आरोप गलत पाए गए और उसके खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की गई थी।
जांच में यह भी पाया गया था कि तेज बहादुर लगातार गलतियां करता रहा है और उसे कई बार कड़ी सजा भी दी गई है, लेकिन वह अब तक नहीं सुधरा। अधिकारियों ने कहा कि जवान तेज बहादुर के पास तीन महीने के अंदर फैसले के खिलाफ अपील करने का विकल्प है।
क्या कहा था तेज बहादुर ने वीडियो में सुनें

loading...

बीएसएफ जवान तेज बहादुर ने वीडियो के जरिये कहा था कि देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं। हम लोग सुबह 6 बजे से शाम 5 बजे तक लगातार 11 घंटे इस बर्फ में खड़े होकर ड्यूटी करते हैं। कितनी भी बर्फ हो, बारिश हो, तूफान हो, इन्हीं हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं। फोटो में हम आपको बहुत अच्छे लग रहे होंगे मगर हमारी क्या हाल है, ये न मीडिया दिखाता है, न मिनिस्टर सुनता है। सरकार कोई भी आई हो, लेकिन हमारे हालात वैसे ही हैं। हम किसी सरकार के खिलाफ आरोप नहीं लगाना चाहते। क्योंकि सरकार हर चीज, हर सामान हमको देती है। मगर उच्च अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं, हमारे को कुछ नहीं मिलता। कई बार तो जवानों को भूखे पेट सोना पड़ता है। मैं आपको नाश्ता दिखाऊंगा, जिसमें सिर्फ एक पराठा और चाय मिलता है, उसके साथ अचार नहीं होता। दोपहर के खाने की दाल में सिर्फ हल्दी और नमक होता है।
वीडियो में पीएम मोदी से लगाई थी गुहार
जवान तेज बहादुर ने वीडियो में आगे कहा था कि मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि इसकी जांच कराएं। दोस्तों यह वीडियो डालने के बाद शायद मैं रहूं या न रहूं। अधिकारियों के बहुत बड़े हाथ हैं। वो मेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं, कुछ भी हो सकता है। बता दें कि तेज बहादुर जम्मू-कश्मीर बॉर्डर पर बीएसएफ की 29वीं बटालियन में तैनात था। जांच के दौरान उन्हें जम्मू में बीएसएफ बटालियन में ट्रांसफर कर दिया गया था।

loading...

Related Posts

About The Author

Add Comment