अमेरिका ने ‘मासूम’ को अांतकी समझ लिया Interview

लंदन (एजेंसी) अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप की सरकार बनने के बाद हर किसी को शक की निगाह से देखा जा रहा है। ऐसा ही एक मामला ब्रिटिश दंपति के सामने पेश आया, जब आतंकी होने के संदेह में अमेरिकी दूतावास में 3 माह के बच्चे का इंटरव्यू लिया। मुस्लिम देशों की अमेरिकी यात्रा पर रोक के बाद इस मूर्खतापूर्ण हरकत को लेकर अमेरिकी दूतावास की काफी आलोचना हो रही है।
अमेरिकी प्रक्रिया पर उठाये सवाल
बच्चे के पिता केयंर्स ने कहा कि इंटरव्यू के दौरान उनका बच्चा भले ही परेशान न हुआ, लेकिन यह हास्यास्पद और भेदभावपूर्ण कार्यवाही अमेरिकी प्रक्रिया पर सवाल खड़े करती है। उन्हें इतनी सी बात समझ नहीं आई कि तीन माह का बच्चा कैसे आतंकी, हिंसक या तोड़फोड़ की गतिविधि में लिप्त हो सकता है।
परिवार को उठाना पड़ा लाखों का नुकसान 
दरअसल अमेरिका घूमने जा रहे बच्ची के दादा पॉल ने वीजा आवेदन फॉर्म में भूल से गलत की जगह सही का टिक लगा दिया था। हालांकि बाद में ब्रिटिश परिवार ने गलती सुधार ली, लेकिन अमेरिकी दूतावास के कर्मचारी ये मामने को तैयार नहीं थे, कि नवजात बच्ची आतंकी नहीं है। उन्होंने बच्चे को पूछताछ के लिए पेश करने का आदेश सुना दिया। बच्चे को करीब 10 घंटे दूतावास में बैठाए रखा गया। बच्ची के पिता केयर्सं ने कहा कि दूतावास के गलती से उन्हें प्रति टिकट करीब ढाई लाख का नुकसान उठाना पड़ा। उनके दादा-दादी पहले से तय फ्लाइट से रवाना हुए, जबकि हार्वे को लेकर केयर्सं की फैमिली 3 दिन बाद रवाना हो पाये।

loading...

Related Posts

About The Author

Add Comment